16 जुलाई 1998 मेरी प्रिय नेहा और दीक्षा मैं यहां कुशलता से हूं और तुम लोग भी अच्छे होंगे, ऐसी आशा है। मुझे अब तक तुम लोगों का कोई...