कॉलेज से लौटा तो मां बरामदे में बिछे तख्तपोश पर सोई हुई थी। वह मुंह पर दुपट्टा लपेटे जब चाहे, जहां चाहे सो जाती है। कई बार...