इतिहास की किताबों में भले ही इसे एक मिथ्या क़रार दिया गया हो लेकिन अप्रैल 1994 में मुझे बंगाली अपवाद के बारे में जानने को मिला....