वर्ष १९८४ मलकीत, शिबानी और अमन सचदेव, तीनों रेडियो पर दंगों की खबर सुन रहे थे। शिबानी का जी मुँह को आ रहा था यह सोच-सोच कर कि...