Posts Tagged ‘कवि’

वर्चस्व की लड़ाइयां कभी-कभी बदलावों का संवाहक हुआ करती थीं। हालॉकि गॉव के हर नाके पर तनाव था, मगर चुहल भी थी, और कयासें तो...

संपादक की पसंद में इस हफ्ते  हमने बात की ‘ एक रंग के खून के भी हज़ारो नाम हो गए ‘ के लेखक जगदीश जाट  से ,वह वर्तमान में एक आईटी...