Author speaks

लावण्या …बहुत ज़ोर देने पर भी उसे याद नहीं आ रहा कि वो इस नाम की किसी लडक़ी को जानती है. न रिश्तेदारी में कोई इस नाम की लडक़ी है...

                  ग्रेग चैपल के साथ वो सात दिन ‘तो आजकल तुम ऑस्ट्रेलिया की रंगीन रातों का लुत्फ उठा रहे हो?’ ग्रेग चैपल ने अपनी...

इतिहास की किताबों में भले ही इसे एक मिथ्या क़रार दिया गया हो लेकिन अप्रैल 1994 में मुझे बंगाली अपवाद के बारे में जानने को मिला....

शाह का बेड़ा बहुत धीमी रफ्तार से  कड़ा  की ओर बढ़ रहा था. बेड़े में एक छोटी बख्तरबंद सेना भी शामिल थी . इस सेना की कमान अहमद छप...

शुभम आपकी कहानी फ़िल्टर कॉफ़ी पाठकों द्वारा पसंद ही गयी है, कहानी के बारे में विस्तार से बताएं. आजकल के दौर में प्यार और...

मैं चाय-परांठा लेकर खड़ा था कि उधर से गुज़रते हुए एक छात्र ने कहा , ‘कैसे प्रेसीडेंट हो? उधर साबरमती ढाबे पर मारपीट हो रही है...

डाल्टनगंज की पहाड़ी पर घने जंगलों के बीच एक गांव है, नाम है कामकी. कामकी के उत्तर में एक नदी बहती है, जिसे कोइल कहते हैं. गांव...

फरवरी, 1999 के खुले मौसम में एक दिन भारतीय जनता पार्टी के सांसद योगी आदित्यनाथ अपने हथियारबंद अनुयायियों के साथ उत्तर...

शक्ति प्रकाश जी आपकी कहानी ‘शब्दों के तीर-इसमें नयी बात क्या है?’, को व्यंग्य कहानी प्रतियोगिता का विजेता घोषित किया गया...

वाइफ और मोटर-बाइक की तलाश में निकला इंसान कन्फ्यूज़ हो ही जाता है, ख़ासकर बाइक के मामले में. नए-नए फ़ीचर्स और बढ़िया से...