By

आपकी कहानी ‘बचपन की यादें’ को त्योहारों के आने पर, प्रतियोगिता का विजेता घोषित किया गया है, कहानी के बारे में थोड़ा विस्तार से बताएं.

सबसे पहले मैं जगरनॉट टीम का मेरी रचना ‘बचपन की यादें’ को विजेता घोषित करने के लिए  हृदय से धन्यवाद देना चाहूँगी।आपका बहुत आभार कि आपने मेरी रचना को इतना मान दिया।
यह कहानी मेरे बचपन के उन सुनहरे पन्नों में से एक है जिन्हें मैने अपने हृदय में सहेज कर रखा हुआ है। यह कहानी उस समय की है जब मैं पाँचवी कक्षा में पढती थी। दिवाली आने वाली थी और घर में रंगरोगन चल रहा था। ऐसे में हमारे पटाखों की तरफ किसी का ध्यान नहीं गया कि बेचारे मासूम बच्चों को पटाखे चाहिए। हमें बार-बार इंतजार करने के लिए कहा जाता लेकिन हम तो हम ही थे। मम्मी पापा से छिपाकर पटाखे ले आए। और सबकी नजरों से बचा कर फोड़ने की तैयारी कर ली। हवा से माचिस न बुझे इसके लिए घर से लगी हुई सूखी तोरी की बेल की आड़ में हम दोनों भाई बहनों ने पटाखे मे आग लगा दी लेकिन गडबड हो गई।बेल आग से जल गई और आग छत तक पहुंच गई वहां धूप में सुखाने के लिए रखे गए कपडों ने आग पकड़ ली।बड़ों की सतर्कता से बड़ा हादसा होने से टल गया लेकिन हमें इससे सावधान रहने और बड़ों से कोई बात न छिपाने का सबक भी मिल गया।

त्योहारों से रिश्त कितने क़रीब आते हैं और आपकी नज़र में हमारे जीवन में त्योहारों का क्या महत्व है?

इस आपाधापी भरी जिंदगी में त्यौहार हमारे जीवन में शीतल बयार लेकर आते हैं। यह त्योहारों का जादू ही होता है जो कि हमारे ठंडे हुए रिश्तों में भी ऊष्मा भर देते हैं।त्योहारों का हमारे जीवन में बहुत महत्व है।हमारे त्यौहार जहाँ एक ओर प्रकृति की बदलती अवस्था को दिखाते हैं वहीं दूसरी ओर अपनों को करीब लाते हैं।आज भी चाहे कितनी व्यस्तता हो हर व्यक्ति कोशिश करता है कि कम से कम त्योहारों पर अपनों के करीब रहा जाए।

आपकी एक पसंदीदा कहानी जो आपके दिल के सबसे करीब हो?
मेरी अपनी एक रचना जो मुझे बहुत पसंद है वह एक लघुकथा है जिसका शीर्षक है ‘खनक’। यह लघुकथा हमारे शहीद सैनिकों की पत्नी की पीड़ा को दिखाती हैं।जिसमें मैने चुड़ियों के जरिए एक शहीद की पत्नी के दर्द को दिखाने की कोशिश की है।जहाँ हम सभी देशवासी चैन की नींद सोते हैं।त्योहारों का आनंद लेते हैं वहीं सीमा पर तैनात वे सैनिक हमारे लिए अपने प्राण निछावर कर रहे होते है और हम उनकी पत्नी उनके परिवार की पीड़ा से अनजान अपने ही सुख में खोये रहते हैं। इस लघुकथा को वरिष्ठ साहित्यकारों का भी आशीष मिला और साथ ही यह मेरी लिखी हुई रचनाओं में श्रेष्ठतम मानी गई है।

जगरनॉट का राइटिंग प्लेटफार्म आपके लेखन में कितना लाभदायक सिद्ध हुआ?
जगरनॉट एक प्लेटफार्म हैं जहां पर हम अपने लेखन को एक नयी ऊंचाई पर ले जा सकते है।यहाँ पर लिखने से हमें पढने वाले हमारे देश में ही नहीं वरन पूरी दुनिया के पाठक हमें पहचानते हैं। जुगरनॉट मे विश्व प्रसिद्ध लेखकों की रचनाओं के साथ खुद को देखना बहुत सुखद लगता है।हमें एक सशक्त पहचान देने के लिए जगरनॉट का शुक्रिया।

आपकी आने वाली रचनाएं कौन कौन सी हैं?
मेरी आने वाली रचनाओं में एक उपन्यास है जो मैं लिख रही हूं। कुछ लघुकथाओं को लिखा है जो मेरी पूर्ण संतुष्टि के साथ पाठकों के सामने आयेगी। मुझे कविता का भी शौक है और सामाजिक विसंगतियों और नारी पीड़ा को देखकर मेरे अंदर की कवयित्री खुद कविता कर बैठती है।

नए लिखने वालों को आप क्या सन्देश देना चाहेगी?
नवोदित लेखकों को सिर्फ इतना कहना चाहूँगी कि केवल अपने दिल की सुने। अपने भाव अपनी सवेंदनाओं को कलम के माध्यम से दुनियां को दिखाएं।आलोचनाओं से घबरा कर अपने विश्वास को डगमगाने न दे।खूब पढ़ें और त्रुटियों पर ध्यान दे।नवोदितों को मेरी तरफ से उनके लेखन के लिए शुभकामनाएं।

दिव्या शर्मा की किताब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें 

 

Leave a Reply